Skip to main content

कप्तान कोहली से विराट उम्मीदे!

जीत, ड्रॉ, हार - ये है बतैर टेस्ट कप्तान विराट कोहली का डेढ़ साल का लेखा जोखा| मैदान में अग्रसक्रिय सोच, युवाओ को प्रोत्साहन और फ़ैसलो में जोखिम लेना और उसकी ज़िम्मेदारी लेना, ये कुछ खुभियाँ जो इस संक्षिप्त अवधि में फॅन्स और समिक्शो को भा रही है| कोहली ने एक पेचेदि भरे मोड़ पर कमान संभाली थी, जब टीम ऑस्ट्रेलिया में संघर्ष करते वक्त धोनी ने अचानक सन्यास की घोषणा की| लेकिन अपने स्वाभाव के अनुरूप कोहली ने उस जटिल परिस्थिति को एक अवसर में तब्दील किया| भारत ने उस दौरे की आखरी टेस्ट मॅच ड्रॉ किया और २०१५ में खेले गयी बड़ी शृंखलाओ में कोहली के नेतृत्व में भारत ने जीत दर्ज की - श्रीलंका में २२ साल बाद जीत और दक्षिण आफ्रिका को - से पछाड़ा| १० टेस्ट मॅच भले ही एक अल्प समय हो किसी के कप्तानी का आकलन करने के लिए, मगर इतने कम कार्यकाल में कोहली ने अपनी छाप छोड़ी है|

अक्सर कड़ी मेहनत के बाद एक तुलनात्मक रूप से आसान काम सामने आता है जो मेहनत का फल प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है| हालाकी तल्ख़ नज़रिए से, मगर अनिल कुंबले के कोच बनने के बाद दिए प्रतिक्रिया में रवि शास्त्री ने कहा था की पिछले १८ महीनो में भारतीय टीम ने काफ़ी तरक्की की है और अब समय गया है उसका फल मिलने काइस हफ्ते से वेस्ट इन्डीज़ के खिलाफ मॅच की शृंखला का आगाज़ हुआ है| आयसीसी टेस्ट रॅंकिंग में भारत दूसरे पायदान और वेस्ट इन्डीज़ आठवे पायदान पर है| पिछले 2 दौरों (2006 और 2011) में भारत ने जीत दर्ज की थी| इतिहास और फॉर्म देखे तो भारत को ये दौरा कठिन होने की संभावना कम ही है| पहले पारी के खेल अपेक्षा के अनुरूप भारत के पक्ष में जाते हुए दिखा|

जुलाई-अगस्त में ये दौरा ख़तम होते ही सितंबर से भारत का एक लंबा घरेलू सीजन शुरू होगा जिसमे 13 टेस्ट मॅच शामिल है| पिछले 16 सालों में 26 घरेलू शृंखलाओ में से भारत सिर्फ़ 3 हारा है, जो ये संकेत देता है की सशक्त प्रतिद्वंदी होने के बावजूद भारत का जीत प्रतिषद बेहतरीन होना चाहिए| बल्लेबाजी क्रम स्थिर है, स्पिनरो को वेस्ट इन्डीज़ की धीमी पिच और भारतीय पिच पर ग्रिप रास आएगीकई पैमानो पर ये समय भारत के लिए लाभदायक हो सकता है - नये कोच-कप्तान के बीच तालमेल हो या काफ़ी टी२० क्रिकेट के बाद टेस्ट क्रिकेट के माहोल को अपनाकर विदेशी ज़मीन पर बरम्बर जीतने का लक्ष हासिल करने के लिए बड़े कदम|

इतिहास गवाह है की टीम का सबसे सफल बल्लेबाज़ हमेशा ही सबसे सफल कप्तान नही होता है| काफ़ी मौको पर इसका प्रमुख कारण दबाव होता है जो प्लेयर के खेल पर असर डालता है| कोहली बतौर बल्लेबाज़ पिछले - सालों में एक अलग मुकाम पर पोहोच गये है, बतोर कप्तान आगाज़ भी सराहनिए है| आकड़ो पर नज़र डाले तो कोहली के ११ शतको में से शतक कप्तान बनने के बाद आए है, और कैरियर औसत भी ४४.०२ से बढ़ कर कप्तानी कार्यकाल में ५२.७० हो जाता है|

हालाकी प्राथमिक संकेत कोहली को ऐसे श्रेणी में डालते है जो प्लेयर दबाव में ज़्यादा बेहतर खेलते है, भारत की कप्तानी का बोझ कठिन बन सकता है और कोहली के फॉर्म के साथ खिलवाड़ ख़तरे भरा हो सकता है| संगठन सतेह पर भले ही सब ठीकठाक नज़र रहा हो, मगर ओपनर्स का फॉर्म, नंबर पर बल्लेबाज़ी, विकेटकीपर का बल्लेबाज़ी में योगदान, तेज गेंदबाजो की धार में कमी, स्लिप फीलडरर्स से कॅच छूटना, ये कुछ पहलू है जिनपर खास तौर पे नज़र रहेगी| इस नज़रिए से ये आनेवाला सीजन कप्तान कोहली के लिए और चुनौती भरा होनेवाला है| टी२० के एक लंबे सीजन के बाद एक टेस्ट मॅच का लंबा सीजन की शुरु होने वाला है, अपेक्षा है की भारत सभी सीरीस जीते और उम्मीद है की एप्रिल २०१७ आने तक एक ऐसा ढ़ाचा तयार हो जाए जिससे भारत विदेशी ज़मीन पर जीतने के लिए आत्मविश्वास दिखा सके|

Comments

Popular posts from this blog

Which Kohli Will Turn Up For The 2017-18 Season?

1st ODI, India vs England, Pune, 15 January 2017. Score 63-4. Dhoni has just been dismissed. The original target of 351, now reads 288 off 229. Kohli is batting on 27*. India’s trio of all-rounders, relatively unfancied, to follow. Kohli scores his 17th hundred in a run-chase, but the hero of the day is Kedar Jadhav whose prominence in the 200-run stand with Kohli took the game away from the opposition. Kohli the batsman extends his incredible record of successful hundreds in run-chases to 17, but Kohli the captain (leading in only his 18th ODI) has found a bankable lower-middle order batsman; the latter more critical as there only 2 more games to play to before India defends its Champions Trophy title in England later in the year.
1st Test, India vs Australia, Pune, 23-25 February 2017. An extraordinarily dry surface greets the opening contest of the big ticket series. India dismiss Australia for 260 after losing the toss. Kohli walks in to bat at 44-2. Two balls later Kohli is back in …

Ten @ 100

Sports careers can be long, they can be illustrious, they can be popular and they can be successful; but if you wish to have all these facets rolled into one - don’t look too far beyond Sachin Ramesh Tendulkar’s cricketing career! He is every budding cricketer’s ideal, a treat for every spectator, a reliable team-player, a senior statesman in the (Indian) cricketing set-up, a dream for every statistician and yet a humble individual who has mastered one dimension of the gentlemen’s game viz. batting like no other. Nobody doubted Tendulkar’s talent during his early days; they only doubted his temperament & endurance. 22 years down the line, you wouldn’t find many people wanting to ask questions of him (“He has been in form longer than some of our guys have been alive” - Daniel Vettori. “If I had to last 20 years, I would probably be batting in a wheelchair”, Ricky Ponting).
Very often we limit the legend of Tendulkar to merely his astounding stats, overlooking the abstract things ass…

The Captaincy Conundrum!

8 teams, 60 matches and 7 ‘Indian’ skippers (discounting Duminy and Miller) constituted the recently concluded 9th edition of the Indian Premier League. This featured 2 new teams, unfamiliar captains (Raina, Vijay), seasoned IPL leaders (Gambhir, Rohit, Dhoni), a motivational veteran (Zaheer Khan) and Indian cricket’s man of the moment - Virat Kohli captaining a powerful side. Right through pre-tournament previews till the beginning of the finals, Sunrisers Hyderabad (SRH) wasn’t the most fancied team in the competition. The team was led by the only non-Indian skipper - David Warner, who didn’t have any prior experience of leading Australia. The middle order appeared fragile and injuries to experienced Indian international players (Nehra and Yuvraj) added to the perceptual woes.
Quietly and probably facilitated by the lack of attention, SRH managed to string in consistent wins and stay in the hunt for the title. The template of SRH was designed to ensure penetration with the new ball …